Thursday, April 16, 2009

Rishtey

रिश्ते


यह तो हमारा भ्रम है
कि हम रिश्ते
बनाते और तोड़ते हैं
सच तो यह है
कि रिश्ते
हमें तोड़ते और बनाते हैं

गलत है यह सोच
कि रिश्ते हमें
हँसाते या रुलाते हैं
रिश्ते तो आईना हैं
बस हमें अपनी शक्ल
दिखलाते हैं

यह तो हमारा भ्रम है
कि हम रिश्ते निभाते हैं
सच तो यह है
कि आखरी दम तक
रिश्ते हमारा साथ
निभाते हैं

रिश्ते ही वह सीढ़ी हैं
जिस पर चढ़कर
हम भगवान के घर जाते हैं

10 comments:

Raviratlami said...

सच है, वस्तुत: हम भ्रम के चहुंओर ही जीते-मरते हैं...

बहुत बढ़िया !

kayesharma said...

Manjul , Kamini aunty read your poem , and I asked her what to write ! She exclaimed -' I am choked with sentiment ! Brilliant thoughts on human relationship: conveying so much in so little."

A philosophy on life in just a few stanzas; yet its reality , the crux of life ! A pretty piece , we both enjoyed reading!

Julia Dutta said...

भ्रम है....sare kuch hi भ्रम है
par agar yeh rishte nahi hote, to hum yeh kahe sakte bhi nahi, ki shayad, hum, tum, sare duniya hi भ्रम है
Aapki khayalo mein hamesha bada depth hai Manjul ji :)))

HEY PRABHU YEH TERA PATH said...

रिश्ते ही वह सीढ़ी हैं
जिस पर चढ़कर
हम भगवान के घर जाते हैं

अति सुन्दर अभिव्यक्ति,
आपने अपनी कविता मे जीवन का सार ही बता दिया
आभार
मुम्बई टाईगर
हे प्रभु यह तेरापन्थ

Prem said...

dear manjul--bahut sunder abhivyakti hai.tumhaare bhav hamesha kuch keh jaate hain --didi

Shama said...

Sahee kaha...rishte hame banate yaa todte hain!

http://kavitasbyshama.blogspot.com

http://smamasansmaran.blogspot.com

http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

http://shama-baagwaanee.blogspot.com

http://shama-kahanee.blogspot.com

http://fiberart-thelightbyalonelypath.blogspot.com

http://gruhsajja-thelightbyalonelypath.blogspot.com

kshama said...

काफी देरतक पढ़ती रही ...एक प्रभाव शाली शैली और उतनी ही प्रभाव शाली अभिव्यक्ती ..

Prem said...

you liked my chintan thanks .iread allyour posts on sulekha ,liked them a lot .

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

"यह तो हमारा भ्रम है
कि हम रिश्ते
बनाते और तोड़ते हैं
सच तो यह है
कि रिश्ते
हमें तोड़ते और बनाते हैं"
इन पंक्तियों ने सब कह दिया...बहुत बहुत बधाई...
मैनें अपने सभी ब्लागों जैसे ‘मेरी ग़ज़ल’,‘मेरे गीत’ और ‘रोमांटिक रचनाएं’ को एक ही ब्लाग "मेरी ग़ज़लें,मेरे गीत/प्रसन्नवदन चतुर्वेदी"में पिरो दिया है।
आप का स्वागत है...

Manoj Bharti said...

रिश्तों को सुंदरता से ब्यां किया है ।

http://gunjanugunj.blogspot.com